भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देवता रूठे हुए हैं / रविशंकर पाण्डेय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देवता रूठे हुए हैं

प्रार्थना में
कुछ कमी थी
देवता रूठे हुए हैं!

ताप के
ताये दिनों में
अनवरत तपते रहे हैं,
आपके ही नाम की
माला लिये
जपते रहे हैंय
क्या चढ़ाते
हम चढ़ावा
फूल फल जूठे हुए हैं!

कुण्डली
बाँची किसी ने
या किसी ने
हाथ देखा,
सभी का कहना
यही था
साफ दिखती भाग्य रेखा
फलित ज्योतिष के
सभी अनुमान
क्यों झूठे हुए हैं!

हाथ में-
दिनभर रहा है
फावड़ा या फिर कुदाली,
किन्तु क्यों
मुट्ठी हमारीय
जिन्दगी भर रही खालीय
क्या हुआ जो खून सींचे
बेंत भी ठूठे हुए हैं!