भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देवी के पर्वत चड़ती चौलण पाट्या ए मां / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देवी के पर्वत चड़ती चौलण पाट्या ए मां।
कै गज चौलन पाट्या के गज रह्या ए मां।
दस गज चौलन पाट्या नौ गज रह्या ए मां।
काहे की तो सुई री मंगाऊं काहे का तागा ए मां।
सार की तो सुई री मंगाऊं रेसम का तागा ए मां।