भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

देवी गीत-सेरों पे होके सवार महरानी / अवधी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

सेरों पे होके सवार महरानी
मेरे घरवा आइन महरानी
निबिया के तरे तरे आयीं महरानी
अब निबिया झपसन लाग महरानी
अमवा के तरे तरे आइन महरानी
अब अमवा बौरन लाग महरानी
तलवा के तीरे तीरे आयीं महरानी
अब तलवा लहरान लाग महरानी
महलों के तरे तरे आयीं महरानी
अब रानिय गर्भन लाग महरानी