भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देश गीत / सुनीता पाण्डेय 'सुरभि'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमारा वतन ये हमारा वतन।
हमें जान से भी है प्यारा वतन॥

है गंगा व यमुना की धारा यहाँ,
है रमणीय परिदृश्य सारा यहाँ।
ये है स्वर्ग-सम जग से न्यारा वतन-
हमें जान से भी है प्यारा वतन॥

ये सोंधी—सी मिट्टी, ये नीला गगन,
है संगीत-लहरी सुनाता पवन।
धरा का चमकता सितारा वतन-
हमें जान से भी है प्यारा वतन॥

कई सभ्यताओं का उद्गम है ये,
नये और पुराने का संगम है ये।
विधाता ने ऐसा निखारा वतन-
हमें जान से भी है प्यारा वतन॥

धरती है माँ, है पिता सम गगन,
ये सुवासित पवन, मुस्कुराते ये वन।
है सबका, हमारा-तुम्हारा वतन-
हमें जान से भी है प्यारा वतन॥