भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देश हमारा एक है / बालकृष्ण गर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साँचा:KKCatDeshBhkti


देश हमारा एक है
मज़हब अलग अलग है
लेकिन देश हमारा एक है

हम सब एक देश के वासी
यही हमारा काबा – काशी .
यहीं मरेंगे यहीं जियेंगे
भाग्य सितारा एक है
देश हमारा एक है .

हिंदू-मुस्लिम-सिख-ईसाई
रिश्ते में हैं भाई भाई
किश्ती अलग-अलग है बेशक ,
किन्तु किनारा एक है
देश हमारा एक है .

कभी ईद है कभी दिवाली
रहती यहाँ सदा खुशहाली
नज़र भले हीं अलग अलग है
मगर नज़ारा एक है
देश हमारा एक है .

जुदा न कोई कर पाएगा
करने वाला पछताएगा
हम अखंड भारत के प्रहरी
सबका नारा एक है
देश हमारा एक है .

कदम मिलाकर सदा बढ़ेंगे
नए नए परवान चढेंगे
एक ओर बहना है सबको
सबकी धारा एक है
देश हमारा एक है .