भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देस यो बसेल छे लीमड़ा की आड़ मs / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

देस यो बसेल छे लीमड़ा की आड़ मs।
मीठो वाड़ चाखजो आइ नs निमाड़ मs।

गणागौर पूजाँगा रथ बौडावाँगा।
काकी का संगात झालरियो गावाँगा।
खावाँगा रोटा अमाड़ी की भाजी।
भाभी कs लावजो करी नs राजी।
धाणी सेकाडाँगा सोमइ की भाड़ मs।
मीठो वाड़ चाखजो आइ नs निमाड़ मs।

ज्वार को खीचड़ो तमरा लेण राँधाँगा।
बाटी को दाळ सी पल्लव बाँधाँगा।
खीर की भजा सी कराँ वरावणी।
चरखा मीठा ताया की पक्की पेरावणी।
मही-घाट भूल्यो रे! हउँ जाफा लाड़ मs।
मीठो वाड़ चाखजो आइ नs निमाड़ मs।

मइसर का घाट पs कूदी नs न्हावाँगा।
बाबा मजार पs पाँय लागी आवाँगा।
देवी की गादी पs टेकाँगा माथो।
राजवाड़ा मs उनको छे गाथो।
किल्लो नs मन्दिर छे रेवा कराड़ मs।
मीठो वाड़ चाखजो आइ नs निमाड़ मs।

"नाँगा देव" देखण बडवाणी जावाँगा।
खजूरी सिंगा का पगल्या पूजी आवाँगा।
अंजड़ की बयड़ी पs देवी को धाम छे।
ऊन का मंदिर मs हुनर को काम छे।
छिरवेल महादेवजी बठ्या पहाड़ मs।
मीठो वाड़ चाखजो आइ नs निमाड़ मs।

नागलवाड़ी मs "नागराज" ख़ास छे।
खरगुण मs "बाकी माता" को वास छे।
कुंदा धड़s मंदिर नs मज्जिद पास छे।
भोळा का हात मs सबकी रास छे।
घाम घणों पड़sज जेठ नs असाड़ मs ।
मीठो वाड़ चाखजो आइ नs निमाड़ मs।

ठीकरी मs खांडेराव की आवज सवारी।
गाड़ा ऊ खइचज घणा भारी- भारी।
खंडवा मs धूणी वाळा दादा अवतारी।
आनs सिवा बाबा की महिमा छे न्यारी।
ओंकार तारजो पड्यो हउँ खाड़ मs।
मीठो वाड़ चाखजो आइ नs निमाड़ मs।