भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दे के आवाज़ ग़म के मारो को / सरदार अंजुम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दे के आवाज़ ग़म के मारो को
मत परेशाँ करो बहारों को

इनसे शायद मिले सुरागे-हयात
आओ सज़दा करें मज़ारों को

वो ख़िज़ा से है आज शर्मिन्दा
जिसने रुसवा किया बहारों को

दिलकशी देख कर तालातुम की
हमनें देखा नहीं क़िनारों को

हम ख़िज़ा से गले मिले "अंजुम"
लोग रोते रहे बहारों को