भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दोपहरी सूनापन / विजया सती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक बेहूदा मज़ाक है दोपहर

उसे नज़रअंदाज़ कर देना चाहती हूँ

लेकिन

ये बेरोज़गार सन्नाटा

धरना दिए बैठा है

और मैं

शाम की राह देख रही हूँ-

शायद कोई फैसला हो सके !