भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दोपहर का कबूलनामा / समीह अल कासिम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैंने बोया एक दरख़्त
मैंने नफ़रत की उसके फलों से
मैंने चूल्हे में जलाईं उसकी डालियाँ
मैंने बनाई एक सारंगी
मैंने बजाई एक धुन

मैंने तोड़ दी सारंगी
मैंने खो दिए फल
भूल गया मैं धुन
मैंने...मातम मनाया उस पेड़ का ।