भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दोपहर / प्रयाग शुक्ल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दोपहर

ठण्ड है दोपहर में
ठण्ड से अलग रात की
सुबह की ठण्ड से अलग

        ठण्ड दोपहर में-

मद्धिम हो रही है धूप
उड़ रहे हैं पत्ते सूखे
चल रही है हवा

        गहराती ठण्ड को!

आ रही है ठण्ड की महक से-

        याद-

दोपहर

ऎसी ही एक दोपहर को
हुए थे हम अलग
समेट एक-दूसरे को!

सूखे पत्तों का विषाद

        ठण्ड में

दोपहर की!