भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दोपहर / विजय वाते

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भागते भागते हो गई दोपहर
मुंह छपाने लगी रोतली दोपहर
 
सर पे साया उसे जो मिला ही नहीं
तो सुबह ही सुबह आ गई दोपहर

ताजगी से भरे फूल खिलते रहे
आग बरसी रुआंसी हुई दोपहर

बूट पालिश बुरूप कप प्लेटों मे गुम
उसकी सारी सुबह खा गई दोपहर

दिन उगा ही नहीं शाम छोटी हुई
एक लंबी सी हंफनी हुई दोपहर