भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दोहा / राजा शिवप्रसाद सितारे-हिन्द

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छा गई ठण्डी साँस झाड़ों में।
पड़ गई कूक-सी पहाड़ों में।

हम नहीं हँसने से रोकते जिसका जी चाहे हँसे।
है वही अपनी कहावत आपसे जी आ फँसे।
अब तो सारा अपने पीछे झगड़ा-झाँटा लग गया।
पाँव में क्या ढूंढ़ती है? जी में काँटा लग गया।