भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दोहे-3 / राजा शिवप्रसाद सितारे-हिन्द

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घर बसा दिन-रात उन का तब मदन वान उस घड़ी,
कह गई दुल्ह-दुल्हिन को ऐसी सौ बातें कड़ी।

बास पाकर केवड़े की केतकी का जी खुला।
सच है, इन दोनों जनों को अब किसकी क्या पड़ी?

क्या न आई लाज कुछ अपने पराए की? अजी!
थी अभी इस बात की ऐसी अभी क्या हड़बड़ी?