भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दो कतआ़त / यगाना चंगेज़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सब तेरे सिवा काफ़िर, आख़िर इसका मतलब क्या!

सिर फिरा दे इन्साँ का ऐसा ख़ब्ते-मज़हब क्या!!


मजाल थी कोई देखे तुम्हें नज़र भरकर।

यह क्या है आज पडे़ हो मले-दले क्योंकर॥