भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दौड़ते हुए / उमाशंकर चौधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दौड़ते हुए
जो अपनी साँसों की आवाज़ सुनते हैं
उन्हें पहुँचने में अभी वक़्त लगेगा
दौड़ने में
अपने क़दमों का नाप याद रखने वाले को भी
अभी वक़्त लगेगा

वे आएँगे
दौड़ना शुरू करेंगे
और दौड़ते चले जाएँगे

वे जो दौड़गे
गिरते हुए बुज़ुर्ग को थामने के लिए
वे जो दौड़ेंगे
बाढ़ में फँसे बच्चे को बचाने के लिए
या फिर दौड़ेंगे
खेत में बैलों के पीछे-पीछे
उनके भीतर होगी एक आग
और उन्हें अभी साँसों पर ध्यान नहीं होगा