भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धड़कता जाता है दिल मुस्कुराने वालों का / कलीम आजिज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धड़कता जाता है दिल मुस्कुराने वालों का
उठा नहीं है अभी ऐतबार नालों का

ये मुख़्तसर सी है रूदाद-ए-सुब्ह-ए-मैं-ख़ाना
ज़मीं पे ढेर था टूटे हुए पियालों का

ये खौफ है के सबा लड़खड़ा के गिर ने पड़े
पयाम ले के चली है शिकस्ता-हालों का

न आएँ अहल-ए-खिरद वादी-ए-जुनूँ की तरफ
यहाँ गुज़र नहीं दामन बचाने वालों का

लिपट लिपट के गले मिल रहे थे खंज़र से
बड़े गज़ब का कलेजा था मरने वालों का