भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धरतीज फोड़ी ओनऽ चूल्हा डाल्यो रे भाई / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

धरतीज फोड़ी ओनऽ चूल्हा डाल्यो रे भाई
अंगार दी सिलगाय रामा
बिजोड़ो दे रे भाई।।
बार फोड्यो ओनऽ कड़ल्या कर्यो रे भाई
माण्डा दियो ओनऽ पोय, रामा
बिजोड़ो दे रे भाई।।
चंदन धोर्यो ओनऽ कढ़ी करी रे भाई
लऊँग हन को दियो, बघार, रामा
बिजोड़ो दे रे भाई।।