भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धरती के छाती फाटै काँपै छै लोर गे / राजकुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धरती के छाती फाटै काँपै छै लोर गे
मटमैलोॅ अंचरा मांगै सुरजोॅ से भोर गे

आसलॉे तबासलोॅ सुखलोॅ टूसा रं ठोर गे
मरूवैलोॅ पत्ता-पत्ता, टुटलोॅ छै डोर गे

कांटा रं रौदा-रौदा, लहकै छै टोर गे
उधियैलोॅ हावा-हावा, तोड़ै पीर-पोर गे

मुरझैलो बॅसुरी, बगिया, लंहगा-पटोर गे
झुरमैलॉ क्यारी-क्यारी, चिरईं के शोर गे

ममता लोरैली मांगै, कुसुमी ईंजोर गे
चुनमुन चिरैया चहकै, ललियैलोॅ कोर गे