भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धरती को माँ कहते हो तो / रेनू द्विवेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धरती को माँ कहते हो तो,
सुन्दर इसे बनाओ!
सृष्टि संतुलित करने खातिर,
पर्यावरण बचाओ!

पेड़-पहाड़ अगर काटोगे,
भू-हो जाएगी बंजर!
आने वाली पीढ़ी को क्या,
दिखलाओगे यह मंजर!

हरियाली से जीवन सुंदर,
सबको यह समझाओ!
सृष्टि---

नदियाँ-झरने वृक्ष-लताएँ,
यह सब भू के आभूषण!
हरी-चुनर वसुधा पहने अब,
खूब करो वृक्षारोपण!

रंग-विरंगे फूलों से नित,
धरती को महकाओ!
सृष्टि---

जड़-चेतन में औषधियों का,
मिलता खूब खजाना है!
जंगल में मंगल रहने दो,
जीवन अगर बचाना है!

निश्छल प्रेम करो कुदरत से,
अपना फर्ज निभाओ!
सृष्टि---

बहुत हो चुका पतन धरा का,
अब तो तुम मानव जागो!
वायु भूमि जल पशु पक्षी को,
अब अपना साथी मानो!

कुदरत की सेवा है करना,
यह संकल्प उठाओ!
सृष्टि---