भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धरती शृंगार करी कामिनी के रूप धरी / अनिल शंकर झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धरती शृंगार करी कामिनी के रूप धरी
अंगे अंग आंग धारी जियरा जुड़ाय छै।
उपरोॅ सें मेघराज लागै जेना कामराज
चहु दिशि कामवाण ताकि बरसाय छै।
पछिया निगोड़ा कभी लट बिखराबै कभी
अचरा उड़ावै मुआ यौवन लजाय छै।
पोर-पोर सुलगै छै आजु मन सहकै छै
आजु मीत संयम न तनियो सुहाय छै।