भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धर ध्यान रटो रघुबीर सदा धनुधारी को / प्रतापकुवँरि बाई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धर ध्यान रटो रघुबीर सदा धनुधारी को ध्यान हिये धर रे।
पर पीर में जाय कै बेग परौ करतें सुभ सुकृत को कर रे॥
तर रे भवसागर को भजि कै लजि कै अघ-औगुण ते डर रे।
परताप कुमारि कहै पद-पंकज पाव धरी मत बीसर रे॥