भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धवल चंदन लेप पर सित हार / कालिदास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: कालिदास  » संग्रह: ऋतुसंहार‍
»  धवल चंदन लेप पर सित हार

धवल चंदन लेप पर

सित हार उर पर डोल सुन्दर

भुजाओं पर वलय अंगद

जघन पर रसना क्वणन कर

नितंबिनि उर अनगातुर

में नवल-श्री भर रहे हैं

हेम कमलों से मुखों पर

पत्र लेखन खिल रहे हैं,

स्वेद कन मुक्ता सदृश

उस पत्र रचना में झलक चल

फेल जाते हैं, नया

उन्माद नयनों में समाकुल

प्रिये मधु आया सुकोमल!