भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धाई जित-तित तैं विदाई-हेत ऊधव की / जगन्नाथदास ’रत्नाकर’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धाई जित-तित तैं विदाई-हेत ऊधव की
गोपीं भरीं आरति सम्हारति न सांसुरी ।
कहै रतनाकर मयूर-पच्छ कोऊ लिए
कोऊगुंझ-अंजलीं उमाहे प्रेम-आंसुरी ॥
भाव-भरी कोऊ लिए रुचिर सजाव दही
कोऊ मही मंजु दाबि दलकति पांसुरी ।
पीत-पट नन्द जसुमति नवनीत नयौ
कीरति कुमारी सुरबारी दई बांसुरी ॥97॥