भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धीणाप / श्याम महर्षि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कागलै नै कागलौ
अर कुरजां नै कुरजां ई
रै‘वण दो

चाहै किणी रौ पीव जावै परदेस
तो कोई रो बीरो आवै घरां,
आं बापड़ै भोळा-ढाळां
पंखेरूआं माथै

रीस बळणौ
कै राजी हुवणौ
दोनूं रो ई अरथाव
उणां नै ठा नीं।

मिनक्यां रो गैलो काटणो
अर गधियां रो जीवणो बगणौ
कै कोचरी रे बोकणै रो
न्यारो मतळब बणावणौ
उणा साथै न्याय नीं,

धरती अर धरती री
प्रकृति रो धीणाप
फकत थारौ ई नीं
पंख-पंखेरू
जीव-जिनावर
अर थारौ म्हारो सगळां रो ई है।