भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धीरे से आ जा री / जगदम्बा चोला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धीरे से आ जा री, अंखियन में निंदिया,
आ जा री आ जा, धीरे से आ जा...!
जागा है मेरा राजकुंवर, तू आके सुला जा,
पंखा झले प्यारी मैया, तू आके पलना झुला जा।
पलकों पे आके, तू हौले से अइयो,
सोते कुंवर को तू यूं न जगइयो।
कच्ची नींद न उठइयो री निंदिया,
आ जा री आ जा, धीरे से आ जा...!
छोटे-से मुख से ली है जमुहाई,
आंखें उनींदी हैं, नींद झुक आई।
हौले-हौले दियो झोटा, लाला जग जाएगा,
रात अभी बाकी है, शोर मचाएगा।
भूख से रोएगा मेरा राजा,
निंदिया धीरे से आ जा।
धीरे से आ जा री, अंखियन में निंदिया,
आ जा री आ जा, धीरे से आ जा...!