भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धुक्कु-पक्कु / भारतेन्दु मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धुक्कु-पक्कु
जिउ डेराय
छोटि केरि नौकरी।

छोड़ि-छोड़ि गाँव-देसु
सहरै तौ आय गयेन
ख्यात-पात
सपनु भये
अइसे मा का करी।

छोटि की कोठरिया है
लरिकवा मेहेरिया है
बसि जस-तस
दिन काटी
चैन अब कहाँ धरी।

लउटि कस हुँआ जाई
हसिहैं दउआ दाई
हियनै
मरि-खपि जइबा
करति करति चाकरी।