भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धुन्ध जी पुछु, रोशिनी विसिरी वई / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धुन्ध जी पुछु, रोशिनी विसिरी वई।
उम्र याद आ, ज़िंदगी विसिरी वई॥

कहिड़े वण जी छांव झंगल में वणी,
शहरु याद आ, घरु घिटी विसिरी वई।

ऐ सितमगर वक्त, तो हीउ छा कयो!
दिलबरनि खां दिलबरी विसिरी वई॥

दरिया दिल यारनि जी हइ, जादूगरी।
रुञ न विसिरी, तश्नगी विसिरी वई॥

शोख़ रुख़ हो, खू़न पर पंहिंजो हुओ।
रतु न विसिरियो, बेरुख़ी विसिरी वई॥

जंहिं मिट्टीअ जी बूइ आ हॾ-मास में।
मुंहिंजे रत खां सा मिट्टी विसिरी वई॥