भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धुवाँ धुवाँ तुवाँलो तुवाँलो / सुरेन्द्र राना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


धुवाँ धुवाँ तुवाँलो तुवाँलो
मेरो आँखा, मेरो मन
आँधी हुरी, धुलो धुलो
हिजो थियो, आज छ झन्

मेरो यात्रा शून्य, मेरो सहर शून्य
मेरो हृदय शुन्य, मेरो रहर शून्य
शून्य शून्य, डढेलो डढेलो
मेरो आँखा, मेरो मन

मेरो घाम आँसु, मेरो जून आँसु
मेरो गीत आँसु, मेरो धुन आँसु
आँसु आँसु, घमिलो घमिलो
मेरो आँखा मेरो मन ।