भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धूप की क़िस्में / राधावल्लभ त्रिपाठी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धूप की कई क़िस्में होती हैं
गुनगुनी धूप
गुलाबी धूप
नम धूप
तीखी धूप
बदन सहलाती मुलायम धूप

धूप के कई रंग होते हैं
सुनहरी धूप
हल्दी के रंग की पीली धूप
पेड़ों से छन कर आती हरी धूप

सबसे अच्छी धूप --
हाड़ कँपाता जाड़ा झेलते
ग़रीब का तन
गरमाने के लिए
घने कोहरे को भेद कर
बाहर आने को आकुल धूप...