भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धूप की मिठाई / हरीश निगम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धूप की मिठाई के दिन
कंबल के दिन, रजाई के दिन,
फिर आए धूप की
मिठाई के दिन!

मफलर की धाक जमी
चले गए छाते,
अब स्वेटर-कोट यहाँ
फिरते इतराते।
बूँदों का खेल खतम
कुहरे की बारी,
थर-थर-थर काँपने की
सबको बीमारी।

सिगड़ी के दिन,
सिंकाई के दिन,
फिर आए आग की
बड़ाई के दिन