भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धूप निकललोॅ छै / उमेश भारती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धूप निकललोॅ छै।
मन एक अजीब एहसास सें भरी उठलौ छै।
तमन्ना छै कुछ करै के।
हौसला मजबूत छै।
अंधेरा केॅ कैक्टस के साथें बांधी दै के।
धूप निकललॉे छै।
मन एक एहसास सें भरी उठलोॅ छै।

संभावना के मौसम तरोताजा होय गेलोॅ छै
आकाश पहले सें साफ होय गेलोॅ छै।
उड़तोॅ होलोॅ पखेरू हँसतें दिखै छै।
धूप निकललोॅ छै।
मन एक एहसास सें भरी उठलोॅ छै।
तमन्ना छै कुछ करै के
हौसला मजबूत छै।
अंधेरा केॅ कैक्टस के साथें बांधी दै के।
धूप निकललोॅ छै।
मन के एहसास सें भरी उठलोॅ छै।