भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धूप निकली है तो बदल की रिदा मांगते हो / शहजाद अहमद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धूप निकली है तो बादल की रिदा माँगते हो
अपने साये में रहो ग़ैर से क्या माँगते हो

अरसा ऐ हश्र में बक्शिश की तमन्ना है तुम्हें
तुमने जो कुछ न किया उसका सिला माँगते हो

उसको मालूम है 'शहजाद' वो सब जानता है
किसलिए हाथ उठाते हो दुआ माँगते हो