भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धूप में बस्ता उठाए / निर्मल शुक्ल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धूप में बस्ता उठाए
हाँफता बच्चा ।

तोतली-भोली निगाहें,
लापता बच्चा ।

नींद नयनों में
अभी अलसा रहीं किरनें
किन्तु कक्षा के नियम
मन में लगे तिरनें

सभ्यता का कंटकित पथ
नापता बच्चा ।

बादलों से घिर गया है
व्योम बचपन का
पाँच का है, लग रहा पर
वृद्घ पचपन का

कापियों पर अब किताबें
छापता बच्चा ।

तोतली-भोली निगाहें,
लापता बच्चा ।