भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धूप रात माटी / शैलेन्द्र चौहान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बहुत सारे दर्द को अहसासती

तुम साथ मेरे चल रही हो


जुड़ गई हर मुस्कान
मुझसे तुम्हारी
नींद में अलसाती मदमाती
बेखबर
फिर भी जुड़ी हो इस तरह
जैसे फूलों में महक
चमक तारों में
आहिस्ता-आहिस्ता
पाँव घिसटाती चल रही हो
तुम ---


धूप,रात,माटी
और मौसम
कितने सलौने
सब ठुकराती चल रही हो
तुम साथ मेरे चल रही हो