भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धूळ री जाजम / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नीं जाणै
किण दिस सूं
उतर्यो सरणाटो
पसरतो गयो
थिरकतै सै’र में
बतावै कुण
थेड़ में मून।

कुण नै किण
किण नै किण
कांई कैयो-बतायो
छेड़कली बार
जणां बिछै ही
काळीबंगां में
धूळ री जाजम।