भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धूवेँ का जंगल / ईश्वरवल्लभ / सुमन पोखरेल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उपर आसमान को देखना है
क्षितिज को छुना है .

किसी को एक फूल देना है
आसपास कोई है कि नही !
यदि कोई है तो उसे बुलाना है ।

फिर कोई लहर व लस्कर बनाके दूर तक पहुँचना है
साम का रक्तिम सूरज
खो गया शायद कहीं
सुब्ह का भोर भी दिखाई नहीं दिया,
निचे जानेवाले रास्ता भी नहीं है।

कहाँ गए वे बस्तीयाँ ?
कहाँ गए वे रिस्तेदार ?

इसी धूवेँ का जंगल मे सब को ढुँडना है ।