भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धोखे खाने हैं / योगेन्द्र वर्मा ‘व्योम’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नित्य आत्महत्या करती हैं
इच्छाएँ सारी !

आय अठन्नी, खर्च रुपैया
इस महंगाई में
बड़की की शादी होनी है
इसी जुलाई में

कैसे होगा? सोच रहा है
गुमसुम बनवारी

बिन फ़ोटो के फ़्रेम सरीखा
यहाँ दिखावा है
अपनेपन का विज्ञापन-सा
छलावा है

अपने मतलब की ख़ातिर नित
नई कलाकारी !

हर पल अपनों से ही सौ-सौ
धोखे खाने हैं
अंत समय तक फिर भी सारे
फ़र्ज़ निभाने हैं

एक अकेला मुखिया घर की
सौ ज़िम्मेदारी !