भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धोबी से धोबी नहीं लेत हैं धुलाई नाथ / महेन्द्र मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धोबी से धोबी नहीं लेत हैं धुलाई नाथ
नाई से नाई ना मजूरी के लिवैंया है।
केवट से केवट नाहीं लेत उतराई
हमतो नदी के खेवैया आप भव के खेवैया हैं।
दुख के हरैया त्रयताप के मिटैया प्रभु
आरत हरैया आप धरनी धरैया है।
द्विज महेन्द्र लालसा है चरण पखरिबे को
तरगई अहिल्या मेरो जीविका यही नैया है।