भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नंद जसुदा औ गाय गोप गोपिका की कछु / जगन्नाथदास ’रत्नाकर’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नंद जसुदा औ गाय गोप गोपिका की कछु
बात बजभान-भौन हूँ की जनि कीजियौ ।
कहै रतनाकर कहतिं सब हा-हा खाइ
ह्याँ के परपंचनि सौं रंच न पसीजियौ ॥
आँस भरि ऐहैं और उदास मुख ह्वै हैं हाय
ब्रज-दुःख त्रास की न तातैं साँस लीजियौ ।
नाम कौ बताइ और जताइ गाम ऊधौ बस
स्याम सौ हमारी राम-आम कहि दीजियौ ॥95॥