भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नआई देऊ, गजल एकान्तमा / राजेश्वर रेग्मी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


नआई देऊ, गजल एकान्तमा
नखोस् खुशीको पल एकान्तमा

आएर तिमी भत्काई दिन्छौ
उभ्याएको भव्य महल एकान्तमा

तिम्रो हाजिरीमा एकनास मेरो
भैरहेको शान्तिमा खलल एकान्तमा

सबै खोसेर खाली हात बनायौ
ज्यूँदै छ अझै आत्मबल एकान्तमा

कहाँ गई अब गुनासो म पोखूँ
पीडाको यो रहलपहल एकान्तमा