भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नई शुरूआत / अरुण देव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब की अच्छी शुरुआत की जाए
घमंड से ऐंठन की जगह
नम्रता से सीधा रहा जाए
पड़ोसियों पर हँसने से पहले
उनके दुःख में रो लिया जाए

एक दिन घर से निकलना हो और
बिना दाग़ के वापस लौटा जाए

आत्मा पर चढ़ने से पहले मैल
हँसी की तेज़ धार से उसे खुरच दिया जाए

एक दिन गली बुहारी जाए
नाली साफ़ की जाए
पर उससे पहले मन के कपट को आँसुओं से धो लिया जाए