भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नए दौर के पुराने गीतकवि के इर्द-गिर्द / राम सेंगर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मरे पड़े थे
या गाफ़िल थे
छींटे मारे नए गीत ने
तो उठ बैठे ।

हटें, हवा आने दें,
काहे घेर लिया है
नशा गोत का उतर रहा
दुर्योग टला ।
तार-तार हो चुकीं
चुनौती की मुद्राएँ
क्या हिसाब देंगे ये अब
अगला-पिछला ।
मँच-तराई-
अय्याशी ने
खोले-फेंके इनके कलगीदार मुरैठे ।

ताक़त-पैसा, नैमत
थी ऊपरवाले की
क़िस्से फ़रफन्दों के इतने
कौन कहे ।
इन्हें मौज़ में
अहमसिद्धि के
स्वाँग फले भी
तृप्त हो गए
किए-धरे पर मगन रहे ।
गड्ढे भरे कि
खोदे इनने
बन्धी हवा में
तुक-स्वर-लय के कान उमेंठे ।

ख़ूब लोकप्रियता को
रातोंरात भुनाया
डींग, होड़ के ज़ज़्बे में
बदली न कभी ।
गीत कहकशाँ का गोटा
छाती पर बान्धे
दिपें निराले
अनबदले जड़जन्तु सभी
नौबत
परम शान्ति की आई
कस कोई जाकर इनकी जाँगर में पैठे ।

मरे पड़े थे
या गाफ़िल थे
छींटे मारे नए गीत ने
तो उठ बैठे ।