भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नए वर्ष का हर्ष / कन्हैयालाल मत्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बंदर जी ने कहा गधे से-
'शुरू हुआ नव वर्ष, सूखे!
नए-नए उपहार मिलेंगे,
खूब मनाओ हर्ष, सूखे!

सुनता हूँ, लगने वाला है-
कुछ दिन बाद नया संवत्,
तुझे मिलेगी श्रम से छुट्टी,
मुझे मदारी से फुर्सत!

कहा गधे ने-'बस, इतना ही
है मुझको विश्वास, सूखे!
तुझे मिलेंगे बासी छोले,
मुझको सूखी घास, सखे!

राजनीति के बाजारों में,
है 'वादों' का मोल कहाँ?
अगर ढोल में पोल न होती,
सुनते बढ़िया बोल कहाँ?'