भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नए वर्ष में / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बोलो, क्या-क्या करोगे
नए वर्ष में ?

पिछली भूलों को ही सिर्फ़ दोहराओगे
या सबक़ उनसे कोई नया पाओगे
कौन सा रंग भरोगे
नए वर्ष में ?

वक़्त का क़ीमती एक हिस्सा गया
लो शुरू हो गया आज क़िस्सा नया
क्या लिखोगे-पढ़ोगे
नए वर्ष में ?

एक रिश्ता बने जो न टूटे कभी
झील इंसानियत की न सूखे कभी
याद रखना, न ये बात भूले कभी
बोलो, वादा करोगे
नए वर्ष में ?