भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नग़्मे हवा ने छेड़े फ़ितरत की बाँसुरी में / साग़र निज़ामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नग़्मे हवा ने छेड़े फ़ितरत की बाँसुरी में,
पैदा हुईं ज़बानें जंगल की ख़ामुशी में ।

उस वक़्त की उदासी है देखने के क़ाबिल,
जब कोई रो रहा हो अफ़्सुर्दा चाँदनी में ।

कुछ तो लतीफ़ होतीं घड़ियाँ मुसीबतों की,
तुम एक दिन तो मिलते दो दिन की ज़िन्दगी में ।

हंगामा-ए-तबस्सुम है मेरी हर ख़मोशी,
तुम मुस्कुरा रहे हो दिल की शगुफ़्तगी में ।

ख़ाली पड़े हुए हैं फूलों के सब सहीफ़े,
राज़-ए-चमन निहाँ है कलियों की ख़ामुशी में ।