भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नटखट किताबें / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बस्ते के अंदर हैं नटखट किताबें,
करती हैं आपस में खटपट, किताबें।

हिंदी की इंगलिश से बिलकुल न बनती।
किसी दिन तो दोनों में बस ऐसी ठनती।
हो जाती हैं गुत्थम-गुत्था दो पल में।
मेल नहीं हो पाता जब इनके दल में
लगती हैं तब जैसे झंझट किताबें।

कहो कुछ तो इनकी समझ में न आता।
बिना बात ही इनको गुस्सा चढ़ आता।
कहाँ तक कहे कोई इनकी कहानी।
वही नोचा-नाची, वही खींचा-तानी,
उड़ती हैं पन्नों में फट-फट किताबें।

अकेली गणित ही है इन सबमें सीधी।
न करती किसी से लड़ाई कभी भी।
सदा साफ रहती नई जिल्द पहने
गर बाकी सब भी लगें ऐसे रहने
सहेली बने सारी झटपट किताबें।