भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नथली के जुलमी तोता / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नथली के जुलमी तोता हालै झूलै मत रे
ऐसी बेहोस करी रे रस टपकै लगी झड़ी रे
या है पीले अधर भरी रे रसता भूले मत रे
फल कच्चे पक्े होते वे झूठे करे नपूते
ढोला तूं छोड़ अछूते सबे गबूरे मत रे