भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नदी-किनारे / विकि आर्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नदी-किनारे
लम्बी घास में
अंगुलियाँ फिरा जाती है हवा,
जैसे एक अनाथ बच्ची के सर पर
हाथ रख जाती है हवा.
झड़ जाती है ओस
जैसे उसकी आँखों से आँसू,
बिखर जाती है धूप,
फिर खिलखिलाहट सी...
यहाँ-वहाँ