भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

नदी के दो किनारे / ईहातीत क्षण / मृदुल कीर्ति

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दो शरीर
परस्पर सलग
परस्पर विलग
आत्मीय आदान -प्रदान का सेतु बंध,
था ही नहीं.
आकर्षण विकर्षण का प्रतिबिम्ब ,
था ही नहीं.
परस्पर प्रति,सहज समर्पण, स्नेहानुबंध
था ही नहीं .
नितांत असम्पृक्त एकाकी होकर भी.
हम निरंतर इस तरह साथ हैं,
जैसे धरती पर छाया आकाश ,
विराट नदी के दो अदृश्य किनारे,
परस्पर सलग ,
परस्पर विलग.