भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नदी के दो किनारे / ईहातीत क्षण / मृदुल कीर्ति

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दो शरीर
परस्पर सलग
परस्पर विलग
आत्मीय आदान -प्रदान का सेतु बंध,
था ही नहीं.
आकर्षण विकर्षण का प्रतिबिम्ब ,
था ही नहीं.
परस्पर प्रति,सहज समर्पण, स्नेहानुबंध
था ही नहीं .
नितांत असम्पृक्त एकाकी होकर भी.
हम निरंतर इस तरह साथ हैं,
जैसे धरती पर छाया आकाश ,
विराट नदी के दो अदृश्य किनारे,
परस्पर सलग ,
परस्पर विलग.