भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नदी के साथ / रवीन्द्र भ्रमर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चलो, नदी के साथ चलें ।

नदी वत्सला है, सुजला है,
इसकी धारा में अतीत का दर्प पला है,
वर्तमान से छनकर यह भविष्य-पथ गढ़ती,
इसका हाथ गहें
युग की जय-यात्रा पर निकलें ।
चलो, नदी के साथ चलें ।

सदा सींचती जीवन-तट को,
स्नेह दिया करती आस्था के अक्षय-वट को,
घट को अनायास पावन पय से भर देती,
इसकी लहरों में उज्ज्वल कर्मों के-
पुण्य फलें ।
चलों, नदी के साथ चलें ।

इसके आँचल की छायाएँ,
मानस के गायत्री-प्रात, ॠचा-संध्याएँ,
लहरों पर इठलातीं दूरागत नौकाएँ
जादू की बाँसुरी बजाएँ
जिनमें गान ढलें ।

चलो, नदी के साथ चलें।